"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Wednesday, January 20, 2010

Naari: kaun hai tu? (नारी: कौन है तू?)




नारी: कौन है तू?



भगवान ने जब सृष्टी बसाई
पुरुष और नारी की ज़िम्मेदारी बढाई
मानवता की रक्षा करने हेतु
नारी की ही भूमिका जताई!

पंचतत्व का करना सम्मान
जो तेरे अन्दर है रची बसी
जल सी पवित्र और निश्छल बन
जननी और पालनहार जैसी तू मही!

बन के रौशनी आग की तू
दिखलाती जा राह नयी
भर के आसमानी रंगों की परछाई
सपनें सजाती जा वही!

लिए समानता हवा की
तू, बढती जाना उस ओर
देख, टूटने ना पाए
संजोये सपने और आस की पतली डोर!

त्याग की मूर्ति
आवेग की पूर्ति
नारी, तुम ही करती!

तेरा मन इतना निर्मल
जितना विशाल उतना ही सुकोमल
देख तेरे कितने है रूप
पल में पर्वत की जैसे तू अटल
अगले ही पल फूलों सी शिथिल!

प्रेम और करुणा के सागर
बहाए तेरे नीर गागर
अल्हड, मदमस्त पवन के झोके
सब ठहरे तेरी ही आँखों में आ कर!

नारी, तेरे विभिनन रूप और रंग
ले जा सब संग!



Naari: kaun hai tu?

Bhagwan ne jab shristi basai
Purush aur naari ki zimmedaari badaai
Manavta ki raksha karne hetu
Naari ki hi bhumika jatai!

Panchtatva ka karna samman
Jo tere andar hai rachi basi
Jal si pavitra aur nishchal ban
Janani aur palanhaar jaisi tu mahi

Ban ke roushani aag ki tu
Dikhlati ja raah nayi
Bhar ke aasmani rango ki parchhai
Sapnein sajati ja wahi!

Liye samanta hawa ki
Tu, badhti jana us or
Dekh, tutne na paaye
Sonjoye sapne ur aas ki patli dor!

Tyag ki moorti
Aaveg ki poorti
Naari, tum hi karti!

Tera man itna nirmal
Jitna vishal utna hi sukomal
Dekh tere kitne hai roop
Pal mein parvat ki jaise tu atal
Agle hi pal phoolon si shithil

Prem aur karuna ke sagar
Bahaye tere neer gagar
Alhad, madmast pavan ke jhauke
Sab thahare teri hi aankhon mein aa kar!

Naari, tere vibhanan roop aur rang
le jaa sab sang!

Related Posts :



3 comments:

Sanjeev said...

True words in a poem. very nice

Rachana said...

tahnk you

VIJI said...

Beautifully written and very meaningful. Really liked it. :)

Post a Comment