"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Friday, January 22, 2010

Apne kaun aur paraye kaun? (अपने कौन और पराये कौन?)




अपना कौन और पराया कौन ?

हाँ, समंदर अपना ही तो है,
जो बहता सदा अपनी ही मस्ती में चूर!
लहरें फिर भी परायी वेग है
आती और चली जाती है, करके बंधन चकना चूर!

हाँ, आसमान भी अपना कहलाता है
सर उपर इसका ही सरमाया है !
बादल भले ही पराये बन जाते है
ऊचे उड़ते चलते चले जाते है!

हाँ, बारिश भी अपनी बन जाती है
क्यूंकि, बूंदों में जीवन की महक घोलती है!
पर यह बिजली तो अनजानी और परायी है
बस पल भर का उजाला भरती है!

हाँ, चकोर भी अपना ही है
ना जाने क्यूँ तकता रहता निरंतर उस ओर!
पर यह चाँद तो बेईमान और पराया है
रहता नहीं हर रात, छिप जाता जब होती भोर!




Apne kaun aur paraye kaun?

Apna kaun aur paraya kaun?

Haan, samandar apna hi toh hai
Jo behta sada apni hi masti mein chur
Lehre fir bhi parayi veg hai
Aati aur chali jati hai, kark bandhan chakana chur!

Haan, aasman bhi apna kehlata hai
Sar uper iska hi sarmaya hai
Badal bhale hi paraye ban jaate hai
Ooche udate chalte chale jaate hai!

Haan, barish bhi apni ban jati hai
Kyunki, boondo mein jeevan ki mehak piroti hai
Par yeh bijli toh anjaani aur parayi hai
Bas pal bhar ka ujjala bharti hai!

Haan, chakore bhi apna hi hai
Na jaane kyun takta rehta nirantar us or
Par yeh chand toh baimaan aur paraya hai
Rehta nahi har raat, chip jata jab hoti bhor!

Related Posts :



2 comments:

forgotten said...

Apne kaun aur paraye kaun? (अपने कौन और पराये कौन?) plz tell me this for nature or some thing els.... good poetry

Rachana said...

Hi Forgetten,

Thanx for your comment. Through this poem, I tried to define that thin line between what is persistent in nature and what comes for few moments.

Post a Comment