"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Friday, April 30, 2010

Ram ya Raavan! (राम या रावण!)




मेरे अन्दर एक रावण है
उसके दस सर है
एक झूठ बोलता है
एक धोखा देता है
एक लालची है
एक चोरी करता है
एक ईर्ष्या करता है
एक शोषण करता है
एक असत्य का साथ देता है
एक विचारो की अशुद्धि लिए हुए है
एक सबका बुरा चाहता है
एक मद्याव्यसनी है!

मेरे अन्दर एक राम भी है
जो एक सर धारण किये हुए है
यह ही मेरी मर्यादा और मान है
जो मेरे अन्दर के रावण से सौ गुना भारी है!

जब भी अन्दर का रावण फुकारता है
राम के बोझ तले कुचला जाता है
और इसका अस्तित्व धुंधलाता जाता है
राम के अस्तित्व का गाढ़ा आधार
रावण की तृष्णा मिटा, उसको भरमाता रहता है!
बदलता रहता है, उसको निर्बल बनाता है!




Ram ya Raavan!

Mere andar ek raavan hai
Uske dus sar hai
Ek jhut bolta hai
Ek dhoka deta hai
Ek laalchi hai
Ek chori karta hai
Ek irshya karta hai
Ek shoshan karta hai
Ek asatya ka saath deta hai
Ek vicharo ki ashudhi liye hue hai
Ek sabka bura chahta hai
Ek madyavyasanee hai!

Mere andar ek ram bhi hai
Jo ek sar dharan kiye hue hai
Yeh hi meri maryada aur maan hai
Jo mere andar ke raavan se sau ghuna bhaari hai!

Jab bhi andar ka raavan fukaarta hai
Ram ke bhoj tale kuchala jaata hai
Aur iska astitva dhundhlata jaata hai!
Ram ke astitva ka ghada aadhar
Raavan ki trishna mita, usko bharmata rehta hai!
Badalta rehta hai, usko nirbal banata hai!


Related Posts :



1 comments:

alka said...

bahut subdar!

Post a Comment