"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Friday, April 2, 2010

Purana Kamra (पुराना कमरा!)



अलसा सा गया है कमरा
कुछ बुड्ढा और नीरस सा
गहरी चुप्पी बैठी है
मेज़, कुर्सियों और दीवारों पर!

नज़रे उठा के मैं
शेल्फ को देखती हू
सलीके से सजी है
पुस्तके ज़माने की!

प्रेमचंद की कथाओ का संकलन
उसके ठीक नीचे है राजनितिक आंकलन
उसके पीछे कवि का आन्दोलन
वही पास ही रखी है कथा समंदर!

वही पास रखे फूलदान में
कुछ मुरझाये से फूल आज भी
ठीक वैसे ही सजे है
जैसे बरसो पहले महक रहे थे!

थोडा आगे जो मेज़ रखी है
उस पर चाय के प्याले
आज भी ना ख़तम होते
बातों के सिलसिले के गवाह है!

मेज़ के पीछे की दीवार
पर जो श्याम-श्वेत तस्वीर लगी है
उन सुलझे और उन्छुए दिनों
की यादें ताज़ा कराती है!

खिड़की का पर्दा
कमरे में लगे
पंखे की धीमी चाल
से भी मन हिला ही जाता है!

मेरा पुराना कमरा
पुरानी यादों का
संरक्षक है!



Purana Kamra!

Alsa sa gaya hai kamra
Kuch buddha aur niras sa
Gehri chupi baithi hai
Mez, kurshiya aur diwaro par

Nazre utha ke main
Shelf ko dekhti hu
Salike se saji hai
Pustake zamane ki!

Premchand ki kathao ka sankalan
Uske theek neeche hai rajnitik aankalan
Uske peeche kavi ka aandolan
Wahi paas hi rakhi hai katha samandar!
Wahi paas rakhe phooldaan mein
Kuch murjhaye se phool aaj bhi
Theek waise hi saje hai
Jaise barso pehle mehak rahe the!

Thoda aage jo mez rakhi hai
Us par chai ke pyale
Aaj bhi na khatam hote
Baton ke silsile ke gavaah hai!

Mez ke peeche ki diwar
Par jo shyam-shwet tasveer lagi hai
Un suljhe aur unchuye dino
Ki yaadein taaza karati hai!

Khidki ka parda
Kamre mein lage
Pankhe ki dhimi chaal
Se bhi man hila hi jaata hai!

Mera purana karma
Purani yaadein ka
Sanrakshak hai!


Related Posts :



1 comments:

Chandan said...
This comment has been removed by the author.

Post a Comment