"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Wednesday, March 10, 2010

Mahila Aarakshan! (महिला आरक्षण)



हो रहा आरक्षण का हो-हल्ला
नाच रहा आज सारा मोहल्ला
ख़ुशी में हो के मगन
माताए-बहनें, झूमे सब संग-संग

खड़ी मैं सोचू
किसको जा के मैं यह पुछू
आरक्षण क्यूँ अधिकार दो
स्वतंत्रता की कुछ तो राहत दो

पुरुष और नारी
जब, साथ में निभाए भागीदारी
और उठाये ज़िम्मेदारी
तभी, खिलेगी तरक्की की क्यारी!


Mahila Aarakshan!

Ho raha aarakshan ka ho-halla
Naach raha aaj saara mohalla
Khushi mein ho ke magan
Maataye-bahene, jhoome sab sang-sang

Khadi main sochu
Kisko jaa ke main yeh pochhu
Aarakshan kyun adhikar do
Swantantra ki kuch to rahat do

Purush aur naari
Jab, saath mein nibhaye bhagidaari
Aur uthaye zimmedaari
Tabhi, khilegi tarakki ki kyari!



Related Posts :



1 comments:

BINDU said...

"बहुमत की आवाज न्याय का द्योतक नही है।"

Post a Comment