"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Tuesday, May 4, 2010

Aatankwadi Ka Ant (आतंकवादी का अंत)



सूरज की प्रथम किरणों के साथ ही
उसने अपनी आँखें खोली
बाहर निकल नीले फैले आसमान को देख
वह मुस्काया, शायद आसमान से मिलन को आतुर था!

इतने सालो में जो
वह जो अपने आप को भूल गया था
वही उसकी आँखों में उतर आया था
संभल कर, अपने आप को समेट कर
अपने हथियार उठा वह चला
आखिरी पड़ाव को…हाँ, अंत से मिलन को चला!

आसमान को देख इतराता
क्यूंकि, उसको अपने अंत का पूरा आभास था
मुड कर, नज़रे इधर-उधर दौड़ा कर
उसने अपना आखिरी सलाम कहा!

ना कोई शिकन
ना कोई थकान
ना ही दर्द
ना ही पछतावा
आखिर किस बात क्या?
मन में जन्नत जाने का उसको नाज़ था!

आँखें बंद कर
बीते दिनों को याद कर
उसने अपने आप को तैयार किया!
अचानक एक धमाका हुआ
लाशें गिरने लगी
धड़ कटने लगे

वही-कही वह भी गिर गया
उसकी आत्मा उसे छोड़ जाने लगी
धुंधलाई आँखें से वह निहार रहा था
शायद, अपने झूठे जीवन के बोझ तले दबा रहा था!
कराह रहा था, जीवन से पल-पल दूर हो रहा था!





Aatankwadi Ka Ant

Suraj ki pratham kirano ke saath hi
Usne apni aankhein kholi
Baahar nikal neele faile aasman ko dekh
Wah muskaya, shayad aasman se milan ko aatur tha!

Itne saalo mein jo
Wah apne aap ko bhul gaya tha
Wahi uski aankhon mein uttar aaya tha
Sambhal kar, apne aap ko samet kar
Apne hatiyaar utha wah chalaa
Aakhiri padav ko…haan ant se milan ko chala!

Aasman ko dekh itrata
Kyunki, usko apne ant ka pura aabhas tha
Mud kar, nazare idhar-udhar dauda ke
Usne apna aakhiri salaam kaha!

Na koi sikan
Na koi thakaan
Na hi dard
Na hi pachhtava
Aakhir kis baat kya?
Man mein jannat jaane ka usko naaz tha!

Aankhein band kar
Beete dino ko yaad kar
Usne apne aap ko taiyyar kiya

Achanak ek dhamaka hua
Laashein girne lagi
Dhadh katne lage

Wahi-kahi wah bhi gir gaya
Uski aatma use chod jaane lagi
Dhundhalayi aankhein se wah nihar raha tha
Shyad, apne jhute jeevan ke bhoj tale daba raha tha!
Karah raha tha, jeevan se pal-pal dur ho raha tha!


Related Posts :



3 comments:

Siddhesh 'Ravan' Kabe said...

woah those where some hard hitting words...

Sudha said...

great lines...

Neeraj Gupta said...

great poem!!!

Post a Comment