"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Monday, September 13, 2010

बरखा!




छलनी-छलनी हो गया आकाश मेरा
सपनो की धारा भी बह चली
बंद आँखें भी उफनती जा रही है
लगता है
मेरे मन के सूने आँगन में
आज झम-झम बरखा नाच रही है!

Related Posts :