"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Thursday, February 4, 2010

Kavi Ka Kaun Sa Hai Mausam? (कवि का कौन सा है मौसम?)



बैठी जो मैं आज लिखने,
लगी मैं यूँ सोचने
होता कौन सा है कवि का मौसम?

गर्मियों की तपती धूप को
शब्दों में पिरो दर्शाया
उमस की मार में
निशब्दता को भी बतलाया!
क्या गर्मी की व्याकुलता कवि को सताई है?

तरसती धरती की गोद से
बूंदों के मिलन के मर्म चित्रण से मन को हर्षाया
फुहारों की पुकार को भी
सजीव बनाया!
क्या बारिश की बूँदें कवि को भरमाई है ?

ठंडी की सर्द रातों में
तारों की झिलमिल छाव तले
जब कोई बिरला जाने किस ओर चले
उसकी व्यथा भी साफ़ बताई है
क्या जाड़े की हवाए कवि को भाई है?

सर्दी बीती, आया मौसम बहार का
कुछ कहने का कुछ सुनने का
इसकी खूबसूरती तो कवि ने चित्रकार बन
कागज़ पर उतारी है!
क्या कवि को बहार की रुत पसंद आई है?

विभिनन मौसम के रंग है अनेक
खिलखिलाए, बहलाए, तडपाये तो कभी खुशिया बिखेरे!

कवि को तो सब रंग भाए
जिसको वो अपनी कविता में सजाये!



Kavi Ka Kaun Sa Hai Mausam?

Baithi jo main aj likhane
Lagi main yun sochane
Hota kaun sa hai kaviyo ka mausam?

Garmiyo ki tapti dhup ko
Sabdo main piro darshaya
Umas ki maar mein
Nishabdata ko bhi batlaya
Kya garmi ki vyakulta kavi ko satayi hai?

Tarasti dharti ki god se
Boondein ke milan ke marm chitran se man ko harsaya
Puharo ki pukar ko bhi
Sajeev banaya!
Kya barish ki boondein kavi ko bharmai hai?

Thandi ki sard raaton mein
Taaron ki jhilmil chhav tale
jab koi birla jaane kis or chale
Uski vyatha bhi saaf batayi hai
Kya jaadde ki hawayien kavi ko bhai hai?

Sardi beeti, aaya mausam bahar ka
Kuch kehne ka kuch sunne ka
Iski khubsoorti toh kavi ne chitrakaar ban
Kagaz par uttari hai!
Kya kavi ko bahar ki rut pyaari hai?

Vibanan mausam ke rang hai anek
khilkhilaye, behlaye, tadpaaye to kabhi khushiya bikhere!

Kavi ko toh sab rang bhaye
Jisko wo apni kavita mein sajaye!

Related Posts :



5 comments:

Himanshu said...

हम भी वाकिफ थे ख्यालों की हकीकत से मगर
हमने भी दिल को ख्यालों से बहल जाने दिया !
वो तो आप थे जिन्होंने उन्हें सब्दों मैं पिरो दिया,

धन्यवाद इतनी सुन्दर रचना क लिए. !

Rachana said...

aapka dhanyavaad kavita pasand karne ke liye...

Rachana

Sanjeev said...

You are doing very well.
Wish you all the best.

Neeraj Gupta said...

nice poem and expression

Rachana said...

thank you for appreciating my work.

Post a Comment