"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Saturday, November 20, 2010

भविष्य!




धुंधला-धुंधला सा
आड़ा-तिरछा
गूंगा-बहरा
सच्चा-झूठा
सोचता-समझता
मुझमे ही कही बंद है
मेरा भविष्य!

Related Posts :



4 comments:

मनोज कुमार said...

धुंधला-धुंधला सा
आड़ा-तिरछा
गूंगा-बहरा
ये हम सबका सच है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सुन्दर प्रस्तुति

अनुपमा पाठक said...

भविष्य की बात करती अच्छी रचना!

Kunwar Kusumesh said...

सुन्दर अभिव्यक्ति..

Post a Comment