"A bi-lingual platform to express free ideas, thoughts and opinions generated from an alert and thoughtful mind."

Monday, October 18, 2010

तीन त्रिवेणी- 9




1. सोचती हूँ! जब तुम नहीं मिले थे
फूलो के रंग खिले नहीं थे

क्या तुम बहार साथ लाये हो?

2. खाली मन, खाली आँखें
देख रही थी टूटा सपना

अच्छा, तुमने रंगों को आँखों में छुपाया था?

3. तुम्हारा और मेरा फासला गहराता है
मन मेरा उसमे डूबता जाता है

आओ, समुन्दर में ही घर बना ले!

Related Posts :



3 comments:

ana said...

bahut sundar likha hai aapne

Shri Ram Ayyangar said...

The photo is superb.

Romeo Das said...

Cute post. Loved it. And the pic does justice to it too :)

Btw, hope you enjoy reading my post too - When love calls

Take care :)

Post a Comment